उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर देखें

उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर क्या होता है यहां से पढ़ें।

बहुत सारे ऐसे विद्यार्थी होते हैं जिनको उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर स्पष्ट रूप से समझ में नहीं आता है। ऐसे ही विद्यार्थियों के लिए eExamPaper.com यह पोस्ट लेकर आया हुआ हैं।

आज हम अपनी इस पोस्ट के माध्यम से आप सबको बताएंगे कि अवतल दर्पण तथा उत्तल दर्पण किसे कहते हैं ? अवतल दर्पण और उत्तल दर्पण में क्या अंतर होता है ? इसके साथ-साथ अवतल दर्पण और उत्तल दर्पण के उपयोग के बारे में भी बताएंगे।

उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण के उपयोग, उत्तल दर्पण के ५ उपयोग, uttal darpan aur avtal darpan me anter, उत्तल और अवतल दर्पण में अंतर, उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर
Uttal Darpan aur Avtal Darpan me Anter (उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर)

अवतल दर्पण तथा उत्तल दर्पण की परिभाषा

अवतल दर्पण किसे कहते हैं ?

अवतल दर्पण एक प्रकार का गोलीय दर्पण होता है। इस दर्पण में परावर्तक सतह अंदर की ओर से उभरा हुआ रहता है। इस प्रकार के दर्पण को अवतल दर्पण कहते हैं।

उत्तल दर्पण किसे कहते हैं ?

उत्तल दर्पण भी एक प्रकार का गोलीय दर्पण है। इस दर्पण में परावर्तक सतह बाहर की ओर से उभरा हुआ रहता है। इस प्रकार के दर्पण को उत्तल दर्पण कहते हैं।

उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण के उदाहरण

नीचे उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण के उदाहरण दिए गए है –

अवतल दर्पण के उदाहरण :- मोटर वाहनों के हेड लाइट्स, दूरबीन, मशाल रोशनी।

उत्तल दर्पण के उदाहरण :- वाहनों के साइड मिरर ऑप्टिकल वाद्ययंत्रों, घंटी कॉलिंग, आदि के भी रियर साइड मिरर।

अवतल दर्पण और उत्तल दर्पण के उपयोग

नीचे उत्तल दर्पण तथा अवतल दर्पण के उपयोग लिखे गए हैं –

अवतल दर्पण का उपयोग

  • बड़ी फोकस दूरी वाला अवतल दर्पण दाढ़ी बनाने के काम आता है।
  • आंख, कान एवं नाक के डॉक्टर द्वारा उपयोग में अवतल दर्पण लाया जाता है।
  • गाड़ी के हेडलाइट एवं सर्च लाइट में उत्तल दर्पण का प्रयोग किया जाता है ।
  • सोलर कुकर में अवतल दर्पण का प्रयोग किया जाता है ।

उत्तल दर्पण का उपयोग

  • इसका उपयोग गाड़ी में चालक की सीट के पीछे के दृश्य को देखने में किया जाता है।
  • सोडियम परावर्तक लाइन पर में उत्तल दर्पण का प्रयोग किया जाता है ।

उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर | Difference between Convex Mirror and Concave Mirror

नीचे उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर को स्पष्ट किया गया है –

उत्तल दर्पण (Convex Mirror)अवतल दर्पण (Concave Mirror)
इसमें परावर्तक सतह बाहर की ओर उभरा हुआ होता है ।इसमें परावर्तक सतह अंदर की ओर उभरा हुआ होता है ।
उत्तल दर्पण प्रकाश को बाहर की ओर प्रतिबिम्बित करता है।अवतल दर्पण प्रकाश को अंदर की ओर प्रतिबिंबित करता है ।
उत्तल दर्पण में प्रत्येक दशा में प्रतिबिंब दर्पण के पीछे, उसके ध्रुवों बीच वस्तु से छोटा, सीधा एवं आभासी बनता है ।अवतल दर्पण में प्रतिबिंब वास्तविक एवं उल्टा बनता है ।
उत्तल दर्पण से बना हुआ प्रतिबिंब वस्तु के मूल आकार से छोटा होता है। अवतल दर्पण से बना हुआ प्रतिबिंब वस्तु के मूल आकार से बड़ा होता है।
उत्तल दर्पण में वस्तु का प्रतिबिंब की और दो ही परिस्थितियों में बनता है अवतल दर्पण में वस्तु का प्रतिबिंब कुल 06 परिस्थितियों में बनता है।
अवतल दर्पण तथा उत्तल दर्पण में अंतर

दोस्तों आप Social Media जैसे Facebook पर हमारे Latest Post के Notification पाना चाहते हैं तो आप हमारे Facebook Page को जरूर Like करें, और अगर आप Facebook पर हमारे साथ जुड़कर अपनी Knowledge और  Information को Share करना चाहते हैं तो हमारे Facebook Group E Exam Paper को जरूर Join करें ।

इसी प्रकार के नोट्स, प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रश्न पत्र, प्रतियोगी  परीक्षाओं से जुड़ी महत्वपूर्ण  जानकारी के लिए  हमारे टेलीग्राम चैनल (Telegram Channel) से जुड़े जहाँ पर सभी प्रकार के नोट्स, पेपर आदि के पीडीएफ (PDF) साझा किया करते है।

अन्य कुछ महत्वपूर्ण अंतर

आशा करता हूं कि हमारे द्वारा लिखे गए इस पोस्ट के माध्यम से आप सभी को उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर पता चल गया होगा। हमनेेेेेेे उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण के अंतर को उदाहरण से समझाने का प्रयास किया है।

यदि आपके किसी भी परीक्षा में उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर लिखिए ऐसा प्रश्न आ जाए तो इस पोस्ट के माध्यम से आप उसका जवाब दे सकते हैं। क्योंकि क्योंकि हमने इसमें अवतल दर्पण एवं उत्तल दर्पण में अंतर क्या होता है इसे स्पष्ट रूप से समझाया है।

Leave a Comment

x